एलएसी
पूर्वी लद्दाख में विघटन और इसके बड़े प्रभावों पर विचार

8 सितंबर 2022 को पूर्वी लद्दाख के चुशुल-मोल्दो में चीन-भारत कोर कमांडर स्तर की 16वें दौर की बैठक के 50 दिन बाद जियान ला (डाबन) और PP15 क्षेत्र से चीन और भारतीय सैनिकों के पीछे हटने पर सहमति बनी। चूँकि PP15 रिज लाइन और कुरंग नाला के समीप एक...

"नए युग" में चीन का गहन रूपांतरण

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने 22 सितंबर 2021 को एक हैरतअंगेज वक्तव्य दिया, जिसके मुताबिक "...गलवान की घटना इसलिए हुई क्योंकि भारत ने पूर्व में किए गए सभी हस्ताक्षरित समझौतों और संधियों का उल्लंघन किया। उसने चीनी क्षेत्र का अतिक्रमण किया, और...

सीमा पर चीन का ख़तरनाक रुख : चीन से हो गई चूक

पिछले दो महीनों से पूर्वी लद्दाख़ में भारतीय और चीनी सैनिक ख़तरनाक ढंग से आमने-सामने हुए हैं और इस वजह से उस सीमा पर कई बार हिंसक घटनाएँ हुई हैं। यह सैनिक तनातनी सीमा पर चीन के ख़तरनाक रुख के कारण पैदा हुआ है जो चीन की दशकों पुरानी ‘धीमी आक्रामकता’...

वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत-चीन टकराव का विश्लेषण

हाल ही में एक प्रतिष्ठित लेखक ने एक प्रमुख भारतीय अखबार में एक लेख में भारत-चीन सीमा विवाद के बारे में विस्तार से बात करते समय कुछ उचित और प्रासंगिक तथ्य सामने रखे हैं। हालांकि तथ्य उपयुक्त हो सकते हैं मगर पश्चिमी सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा...

प्रधानमंत्री मोदी का लेह दौरा: आगे क्या?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 3 जुलाई को भारत-चीन सीमा के निकट लेह के करीब एक सैन्य ठिकाने का औचक दौरा भारत-चीन सैन्य टकराव में बड़ा मोड़ लेकर आया। नौ हफ्तों से जारी टकराव सैन्य कमांडर स्तर एवं अधिकारी स्तर की राजनीतिक वार्ताओं के कई दौरा होने के बाद...

वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत-चीन टकराव का विश्लेषण

हाल ही में एक प्रतिष्ठित लेखक ने एक प्रमुख भारतीय अखबार में एक लेख में भारत-चीन सीमा विवाद के बारे में विस्तार से बात करते समय कुछ उचित और प्रासंगिक तथ्य सामने रखे हैं। हालांकि तथ्य उपयुक्त हो सकते हैं मगर पश्चिमी सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा...

Contact Us